डर लगता है

​गलियों को भगवा रंग के ध्वजों से सजा देख

मुझे डर लगता है।

गाड़ियों व मोटरसाइकिलों पर हरे झण्डों को देख

मुझे डर लगता है। 

कुर्ता-पैजामा पहने युवाओं को देख

मुझे डर लगता है।

वर्ष भर होते माता-रानी के जगराते के आयोजनकर्ताओं को देख

मुझे डर लगता है।

मुहल्ले में नये-नये मन्दिरों व मस्जिदों को बनता देख

मुझे डर लगता है।

हाय रे! हर धार्मिक में

एक कट्टरपन्थी व आतंकवादी दिखाई देता है,

हर सामूहिक उत्सव एक आड़म्बर लगता है।

हाय रे! कभी-कभी तो

इन सभी धर्मों से ही डर लगता है।

Advertisements

2 thoughts on “डर लगता है

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s