वर्षा की अपेक्षा

गर्मी से तप रहा है शरीर पसीने से अशान्त हो रहा है मन। पङ्खे से भी मानो आ रही है गरम हवा स्नान मानो स्वयं को पसीने में पुनः भिगोने के समान। तभी अचानक गरम हवा के थपेड़े समाप्त हुए और गगन ने छाई रङ्ग में स्वयं को ढाल लिया। हताश मन ने कहा, "अपेक्षाएँ … Continue reading वर्षा की अपेक्षा