डर लगता है

​गलियों को भगवा रंग के ध्वजों से सजा देख मुझे डर लगता है। गाड़ियों व मोटरसाइकिलों पर हरे झण्डों को देख मुझे डर लगता है।  कुर्ता-पैजामा पहने युवाओं को देख मुझे डर लगता है। वर्ष भर होते माता-रानी के जगराते के आयोजनकर्ताओं को देख मुझे डर लगता है। मुहल्ले में नये-नये मन्दिरों व मस्जिदों को … Continue reading डर लगता है

Warmth

Warmth,  I remember that feeling a bit.  Warmth lay in my mother's embrace In my father's quiet presence.  When playing with my friends And exulting as we were drenched in sweat, I felt warmth. When I finally mustered courage to Speak to my crush And she replied pleasantly Instead of a disgusted sneer as I … Continue reading Warmth